मेरे घर में शराब बनती और बिकती थी लेकिन, मैंने अपनी मां और बाबूजी से कहा कि आपलोग इस धंधे को बंद कर दीजिए तो मैं बड़ा आदमी बनकर दिखाउंगा.

पटना. बिहार में जारी पूर्ण शराबबंदी कानून के बीच पूर्व सीएम जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) ने एक बार फिर से विवादित बयान दिया है. शराबबंदी कानून (Liquor Ban In Bihar) को संशोधित करने की पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने वकालत की है तो साथ में ये भी कह डाला कि कानून में संशोधन कर थोड़ी-थोड़ी पीने की छूट मिलनी चाहिए. हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM) सेक्यूलर की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में शामिल होने के लिए मांझी वाल्मीकिनगर पहुंचे थे.

पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने एक बार फिर से शराबबंदी कानून पर सरकार को आड़े हाथों लिया. मांझी ने कहा कि बिहार के पढ़े-लिखे वर्ग के लोग रात में दस बजे बाद शराब पीते हैं. यहां तक कि डॉक्टर-इंजीनियर भी शराब का सेवन करते हैं जबकि दबा कुचला वर्ग शराब पीने के आरोप में पकड़ा जाता है. उन्होंने कहा कि आदिवासी और अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के लोग देवी-देवताओं की पूजा के दौरान शराब चढ़ाते हैं, इसलिए शराबबंदी कानून पर सरकार को विचार करना चाहिए. मांझी ने ये भी कहा कि शराब पीना बुरी बात है. मेरे घर में शराब बनती और बिकती थी लेकिन, मैंने अपनी मां और बाबूजी से कहा कि आपलोग इस धंधे को बंद कर दीजिए तो मैं बड़ा आदमी बनकर दिखाउंगा.

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares