अब ‘बांसुरी बजाएंगे’ तेज प्रताप यादव, लालू यादव की फटकार के बाद बदला सिंबल

तेज प्रताप ने ऐलान किया था कि उनका संगठन यूपी चुनाव से लेकर पंचायत चुनाव तक में अपनी सक्रीय भूमिका निभाएगा. उन्होंने अपने संगठन के लिए आरजेडी के लालटेन सिंबल का इस्तेमाल कर दिया था. 

  • तेजस्वी यादव ने सिंबल पर जताई थी आपत्ति
  • यूपी चुनाव से लेकर पंचायत तक सक्रिय भूमिका निभाएगा छात्र जनशक्ति परिषद

Patna:तेज प्रताप यादव के संगठन का सिंबल बदल चुका है. अब हाथ पकड़े लालटेन की जगह तेज प्रताप के संगठन का सिंबल ‘बांसुरी’ होगा. तेज प्रताप यादव ने खुद इसकी जानकारी शेयर की है. दरअसल, तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) छात्र जनशक्ति परिषद के नाम से अपना संगठन बनाया है. तेज प्रताप ने अपने संगठन के सोशल मीडिया अकाउंट में बांसुरी के सिंबल को पेश किया है. जिसमें तेज प्रताप यादव की तस्वीर के पीछे बांसुरी का सिंबल दर्शाया गया है. 

तेज प्रताप को छोड़ना पड़ा ‘लालटेन’
दरअसल, जिस बात का डर था आखिर वही हुआ. तेज प्रताप यादव को अपने संगठन के लिए ‘लालटेन’ वाला सिंबल छोड़ना ही पड़ा. बता दें कि तेज प्रताप ने छात्र आरजेडी से नाता खत्म करते हुए हाल ही अपना स्वतंत्र संगठन तैयार किया था. छात्र नौजवानों को अपने संगठन से जोड़ने के लिए तेज प्रताप ने ‘छात्र जनशक्ति परिषद’ के नाम से संगठन बनाया था. संगठन की घोषणा के बाद ही तेज प्रताप ने अपने संगठन का सिंबल भी जारी कर दिया था. 

सिंबल पर हुआ बवाल
तेज प्रताप ने ऐलान किया था कि उनका संगठन यूपी चुनाव से लेकर पंचायत चुनाव तक में अपनी सक्रिय भूमिका निभाएगा. उन्होंने अपने संगठन के लिए आरजेडी के लालटेन सिंबल का इस्तेमाल कर दिया था. आरजेडी को सिंबल पर आपत्ति न हो इसके लिए लालटेन के साथ हाथ की तस्वीर लगा दी थी. लेकिन तेज प्रताप के सिंबल जारी करने के बाद बड़ा बवाल खड़ा हो गया. 

तो इसलिए तेजप्रताप ने बदला सिंबल
तेज प्रताप के फैसले के खिलाफ लालू परिवार में ही बड़ा बवाल मच गया. तेजस्वी (Tejashwi Yadav) ने तेज प्रताप के फैसले पर सवाल खड़े कर दिए. मामला लालू प्रसाद यादव  (Lalu Prasad  Yadav) के दरबार तक पहुंच गया. बाद में लालू प्रसाद ने तेज प्रताप को दिल्ली बुलाया. लालू प्रसाद से मिली फटकार के बाद तेज प्रताप यादव ने अपने संगठन का सिंबल बदलने का फैसला लिया. चूंकी तेज प्रताप बांसुरी काफी अच्छा बजाते हैं और तेज प्रताप खुद को कृष्ण का अंश मानते हैं इसलिए उन्होंने बांसुरी को अपनी पार्टी का सिंबल बना दिया है.  

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares